Chitkabari Aawaz

Don’t walk as if you own this world.
Walk as if you don’t care who owns this world !!

Last couple of days-what should I say 😉
Living on the edge on each and every dimension in my life. Can write only this much right now.

आकाश के इस सूने पन में
छा गए हो तुम बादल बन ,

इस प्यासी धरती को भी
तृप्त कीया यूं बारीश बन ,

इस बंजर मरुस्थल को भी
शीत कीया है सावन बन ,

कीतना तुमने इंतज़ार कराया
जानता है बस मेरा मन ,

इस दील की पतली गली में
यूँ आए हो तुम अजनबी बन ,

इस मन के स्थीर घोडे को भी
दौड़ रहे हो यूं सारथी बन ,

लेकर खुशियाँ आए हो तुम
मेरे घर का आँगन बन ,

मेरे हर दर्द को अब
पी गए हो तुम आंसू बन ,

हर दिशा के सन्नाटे को भी
तोड़ चुके हो तुम मुस्कराहट बन ,

मुझे एक गहरी नींद से
जगह रहे हो सुनहरा सपना बन ,

मेरी प्यार विहीन दुनिया में
आए हो एक उम्मीद बन ,

हर हद को पार करने को तो
कहते हैं लोग दीवानापन ,

मेरी हाँ में हाँ भर दो
तुम मेरे जीवन साथी बन ,

तनहा छोड़ चले न जाना
यूं दील की बातों से अनजान बन !!!!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s