God and Moon

ना पूँछ तू इतना की- मै कौन हूँ , कहाँ हूँ , कैसा हूँ,
लबों से जान ही निकल आएगी जवाब के साथ ।
छोड़ दे मुझको इन परिंदों , इन जनावरों के बीच ए ‘नूर ‘
पता तो चले , कितना दूर और है मेरे इस खुदा का साथ ।।
-नूर

What happens when you see a God ..

रंग रूप नूर तुझे , काळा सावळा ,
तुझ्या दर्शनानी मी, झाला बावळा |

सर्व काही घेउनि आला , तुझे बाळ रूप ,
काही जाणु नाही ऊन,  वारा वादळा |

तू नाव रंग सगळी कडे , देत तू हे ताल ,
दाहि दिशा अंतरमनी , भाव वेगळा |

धिन्ना धिन्ना नादा नी , झालो मोकळा ,
स्वप्ना पलीकडचा हा , आनंद सोहळा ॥

The Inkman

मैंने उसे तलाश किया , उसकी बातों मे, उसके लहजे में
उसकी तस्वीरों में , उसके रंगीन कपड़ों में,
उसके सामानो में, और उसके …हर तरफ हर जगह , कहा नही
वो मिला नहीं …कहीं नहीं लेकिन
जब शुरू किया लिखना , उसके बारें में
इंशाल्लाह वोह ‘नूर’, हर एक लफ्ज में अशर में सियाही की हर एक बूँद में हाजिर था ॥

Fountain of Joy

दत्त राज जन्मले, विश्व आनंदी नाचले ।
त्रिगुणात्मक त्रयमूर्ति ,भूमित आले ,
ब्रह्माण्ड गाजले ,मृदंग वाजले ।

महा रूप संस्कृत ,प्रकट झाले ,
सनातन गाजले ,महागुरु पावले  ॥

Lepakshi and Los Angels

चांदण्या  च्या वना मधे , एक नीली  परी
नूर उन वार्या  मधे , एक गुलाब गाला  वरी ॥

सैल पूल प्रीती शिखर , प्राण नाव सरोवरी ।
स्वप्न परीपूर्ण नूर , रंजक तू मनोहरी ॥

चिरन्तन परिपूर्ण खली , स्वछन्द आनन्द घरी ।
तुझा हां हास मनवास, अमृत की मधुकरी ॥  

लेपाक्शी संथ  गति , स्वर रंग घरोघरी ।
चित्र संचित पल्लव  झूम , आज नूर बरोबरी ॥